कहीं कर्ज के जाल में तो नहीं फंस रहे आप, ऐसे लगाएं पता

Financial Planning: वित्तिय संकट का सामना लगभग सभी को कभी न कभी अपनी जिंदगी में करना पड़ता है. हालांकि सभी कोशिश करते हैं कि उनके साथ ऐसा न हो. कर्ज का बढ़ता जाल एक ऐसा कारण है जो किसी को भी मुश्किलों में ला सकता है. अक्सर ऐसा होता है तो व्यक्ति धीरे-धीरे कर्ज के जाल में उलझता चला जाता है और इस बात का अंदाजा उसे हो नहीं पाता. इससे बचने का एक ही तरीका है कि हम पहले से सतर्क हो जाएं. दरअसल कुछ संकेतों से हम यह पता लगा सकते हैं कि निकट भविष्य में हम भारी कर्ज के बोझ तले दब सकते हैं. जानते हैं ये संकेत कौन से हैं.

EMI

  • आपकी इनकम का अगर 50 फीसदी से ज्यादा हिस्सा EMI में जा रहा है तो आपको तुरंत अलर्ट हो जाना चाहिए.
  • ऐसा तब होता है जब आप कई छोटे-छोटे लोन या फिर एक बड़ा लोन लेते हैं. अच्छे डिस्काउंट के चक्कर में भी लोग जरूरत से ज्यादा शॉपिंग कर लेते हैं और अपनी सैलरी का बड़ा हिस्सा ईएमआई में गंवाने लगते हैं.
  • इस बात का ध्यान रखें कि ईएमआई मासिक वेतन की 30-40 फीसदी या इससे कम होनी चाहिए.

बचत

  • अगर आप बचत नहीं कर पा रहे हैं तो जान लें कि निकट भविष्य में आपको कर्ज लेने की जरुरत पड़ सकती है.
  • मंथली इनकम का कम से कम 10-20 फीसदी बचाने की कोशिश करनी चाहिए.
  • अगर आपकी पूरी कमाई खर्च हो रही है और बजत शून्य है तो आप जोखिम में हैं.

मिनिमम क्रेडिट कार्ड बिल पेमेंट

  • अगर आप क्रेडिट कार्ड का मिनिमम बिल चुकाते हैं तो ऐसा करना तुरंत बंद कर दें. यह आपको कर्ज के जाल में फंसा सकता है.
  • अगर आप अपने क्रेडिट कार्ड बिल का 90% भुगतान कर देते हैं, तो बैंक अगले बिल साइकिल में पूरी राशि पर ब्याज लेंगे, न कि 10% बकाया पर.
  • एक ही बार में पूरे क्रेडिट बिल को क्लियर करना बेहतर है.

इन बातों का भी रखें ध्यान

  • एक कर्ज को चुकाने के लिए नया कर्ज नहीं लेना चाहिए. यह आपको कर्ज के जाल में फंसा सकता है.
  • अपने तय खर्चों के अलावा अगर कोई शॉपिंग करनी या कहीं जाना है तो इसका खर्च अपनी सेलरी या बचत से पूरा करें. कोशिश करें कि इसके लिए कर्ज न लें.
  • EMI और बिल पेमेंटसमय पर चुकाएं अगर आप ऐसा नहीं करते हैं और लगातार इनका भुगतान नहीं कर पाते तो समझ लें कि आप कर्ज के बोझ में दब सकते हैं.
  • क्रेडिट स्कोर को प्रभावित करने वाले कदमों से बचें जैसे- बहुत ज्यादा लोन चलना, कई क्रेडिट कार्ड ऐप्लीकेशन, ईएमआई डिफॉल्ट आदि.

[ad_2]

Source

Leave a Comment

Your email address will not be published.