Budget 2022: केंद्र सरकार इस साल भी पेश करेगी डिजिटल बजट, जानें किस तरह होगी छपाई?

Budget 2022: केंद्र सरकार इस साल भी पेश करेगी डिजिटल बजट, जानें किस तरह होगी छपाई?

Budget 2022 Date: 1 फरवरी को देश का केंद्रीय बजट (union budget) पेश किया जाएगा. इस बार का बजट भी डिजिटल होगा. केंद्र सरकार ने इस बारे में जानकारी दी है. देशभर में फैली महामारी की वजह से एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के कर प्रस्तावों की प्रस्तुति और वित्तीय विवरण से जुड़े सभी डॉक्युमेंट्स की छपाई नहीं की जाएगी यानी आपको इस बार भी बजट डिजिटल फॉर्म में ही मिलेगा. इस बार वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी, 2022 को अपना चौथा बजट पेश करेंगी.

नॉर्थ ब्लॉक में होती है छपाई
अधिकारियों की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक, बजट डॉक्युमेंट्स ज्यादातर डिजिटल रूप में उपलब्ध होंगे. भौतिक रूप से इसकी कुछ ही प्रति उपलब्ध होगी. बजट दस्तावेज की कई सौ प्रतियों की छपाई होती रही है. संख्या के हिसाब से यह इतनी विस्तृत प्रक्रिया थी कि छपाई से जुड़े कर्मचारियों को भी नॉर्थ ब्लॉक के ‘बेसमेंट’ में प्रिंटिंग प्रेस के अंदर कम से कम कुछ सप्ताह के लिए रहना पड़ता था. वित्त मंत्रालय का दफ्तर नॉर्थ ब्लॉक में ही है.

हलवा सेरेमनी से शुरू होती है बजट की छपाई
कर्मचारियों के घर-परिवार से अलग रहने और बजट दस्तावेज की छपाई का काम परंपरागत ‘हलवा समारोह’ से शुरू होता रहा है. इस कार्यक्रम में वित्त मंत्री, वित्त राज्य मंत्री और मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी शामिल होते हैं.

मोदी सरकार ने घटाईं बजट प्रतियों की छपाई
मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से, बजट प्रतियों की छपाई कम होती गई है. शुरू में पत्रकारों और बाहरी विश्लेषकों को वितरित की जाने वाली प्रतियों में कमी की गई और फिर महामारी का हवाला देते हुए लोकसभा और राज्यसभा सांसदों को दी जाने वाली प्रति घटायी गईं.

हलवा सेरेमनी को भी छोड़ा
इस साल कोविड-19 के नए स्वरूप ओमीक्रोन को लेकर और पाबंदियां लगायी गयी हैं. सूत्रों के मुताबिक, महामारी के कारण ही परंपरागत हलवा समारोह को भी छोड़ दिया गया है. हालांकि, बजट दस्तावेजों के संकलन को डिजिटल रूप देने के लिए कर्मचारियों के एक छोटे समूह को पृथक रहने की जरूरत होगी.

क्या है बजट दस्तावेज?
बजट दस्तावेज में आम तौर पर संसद में किये जाने वाले वित्त मंत्री के भाषण, मुख्य बातें, वार्षिक वित्तीय विवरण, कर प्रस्तावों वाले वित्त विधेयक, वित्तीय विधेयक में प्रावधानों की व्याख्या करने वाला ज्ञापन और वृहत आर्थिक रूपरेखा ब्योरा शामिल होते हैं. इनमें मध्यम अवधि की राजकोषीय नीति सह राजकोषीय नीति रणनीति बयान, योजनाओं के लिए परिणाम रूपरेखा, सीमा शुल्क अधिसूचना, पिछली बजट घोषणाओं का कार्यान्वयन, प्राप्ति बजट, व्यय बजट और बजट अनुमानों का विवरण भी शामिल होता है.

[ad_2]

Leave a Comment

Your email address will not be published.