टर्म इन्शुरन्स

टर्म इन्शुरन्स: भारत में सर्वश्रेष्ठ टर्म इंश्योरेंस चुनने के 6 टिप्स

टर्म इन्शुरन्स: टर्म इन्शुरन्स प्लान चुनते समय, ज्यादातर लोग सबसे पहले कीमतों की तुलना करते हैं। हां, कीमत महत्वपूर्ण है। लेकिन टर्म इन्शुरन्स प्लान की कीमत को बहुत अधिक महत्व देकर, आप अपने परिवार की वित्तीय सुरक्षा से समझौता कर सकते हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके परिवार को भविष्य में नुकसान न हो, हमने पांच महत्वपूर्ण विशेषताओं की एक सूची तैयार की है जो आपको सर्वश्रेष्ठ टर्म इंश्योरेंस प्लान चुनने में मदद करेंगी।

बेस्ट टर्म इन्शुरन्स कैसे चुने 

1. दावा निपटान अनुपात (Claim Settlement Ratio):

यह अनुपात वर्ष में दायर किए गए कुल दावों में से भुगतान किए गए दावों के प्रतिशत को दर्शाता है। अनुपात जितना अधिक होगा, आपके आश्रितों के लिए आपकी अनुपस्थिति में बीमा का दावा करना और आराम से अपना जीवन जीना जारी रखना उतना ही आसान होगा।

टर्म लाइफ इंश्योरेंस का उद्देश्य आपके आश्रितों के भविष्य को सुरक्षित करना है। दावा निपटान अनुपात जितना अधिक होगा, यह सुनिश्चित करने की संभावना उतनी ही बेहतर होगी कि आपके परिवार का भविष्य सुरक्षित है।

जबकि दावा निपटान अनुपात महत्वपूर्ण है, बीमाकर्ता द्वारा निपटाए गए दावों की कुल संख्या की जांच करना भी उतना ही महत्वपूर्ण है। केवल जब पर्याप्त संख्या में दावों का निपटान किया जाता है, तो दावा निपटान अनुपात प्राप्त होता है.

2.अपनी आय का विश्लेषण करें (Analyze Your Income)

लोगों के बीच एक आम चिंता यह है कि टर्म इंश्योरेंस राशि कैसे तय की जाए जो उनके परिवार के लिए पर्याप्त हो। अपनी आय का विश्लेषण करने की सलाह दी जाती है ताकि इसकी अधिक व्यावहारिक तस्वीर प्राप्त हो सके। हम में से प्रत्येक के जीवन में वित्तीय कर्तव्यों का एक समूह होता है जिसके लिए आय के विभिन्न भागों की आवश्यकता होती है। जब आप अपनी आय की सीमाओं का मूल्यांकन करते हैं, तो आप बेहतर निवेश कर सकते हैं।

अपने प्रियजनों की वित्तीय आवश्यकताओं की गणना करना महत्वपूर्ण है ताकि आप जीवन कवर को अधिक महत्व न दें। यदि आपकी आय प्रीमियम राशि को पूरा करने में असमर्थ है, तो आप अपनी वित्तीय स्थिति पर अत्यधिक बोझ डाल सकते हैं।

3.सॉल्वेंसी अनुपात (Solvency Ratio):

सॉल्वेंसी रेश्यो आपको बताता है कि आपके द्वारा चुना गया बीमाकर्ता जरूरत पड़ने पर आपके दावे का निपटान करने में वित्तीय रूप से सक्षम होगा या नहीं। भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) का आदेश है कि प्रत्येक जीवन बीमाकर्ता को कम से कम 1.5 का सॉल्वेंसी अनुपात बनाए रखना चाहिए।

एक प्राकृतिक आपदा के मामले में, एक जीवन बीमाकर्ता को छोटी अवधि में बड़ी संख्या में दावे प्राप्त होंगे। से एकविशालदावों की मात्रा को जल्दी से निपटाना होगा, ऐसी स्थितियों में सॉल्वेंसी अनुपात महत्वपूर्ण हो जाता है। आपके परिवार की वित्तीय सुरक्षा आपके जीवन बीमाकर्ता की वित्तीय स्थिरता पर निर्भर करेगी । भले ही प्राकृतिक आपदाएं असंभाव्य लग सकती हैं, इस महत्वपूर्ण पहलू की अनदेखी करना आपके परिवार की वित्तीय सुरक्षा से समझौता कर सकता है

 4. गंभीर बीमारी कवर (Critical Illness Cover):

एक टर्म इंश्योरेंस प्लान किसी दुर्भाग्यपूर्ण घटना की स्थिति में आपके परिवार के वित्तीय भविष्य को सुरक्षित करता है। लेकिन वोमौतमहत्वपूर्ण कमाई करने वाले सदस्य की संख्या ही एकमात्र समय नहीं है जब परिवार की वित्तीय सुरक्षा खतरे में आती है। कैंसर या ब्रेन सर्जरी जैसी गंभीर बीमारी में बहुत पैसा खर्च हो सकता है और परिवार की आर्थिक स्थिति खराब हो सकती है। क्रिटिकल इलनेस प्लान डायग्नोसिस के तुरंत बाद कवर राशि का भुगतान करते हैं। क्रिटिकल इलनेस कवर राशि उपचार की उच्च लागत को कवर करने में मदद करती है और यह सुनिश्चित करती है कि आपके परिवार के पास अपने सामान्य दैनिक जीवन को बनाए रखने के लिए पर्याप्त धन हो। गंभीर बीमारी कवर के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम भी धारा 80डी के तहत कटौती के लिए पात्र हैं ।

5. अतिरिक्त कवर (Additional Covers):

सभी टर्म इंश्योरेंस प्लान एक बेसिक लाइफ कवर प्रदान करेंगे। यदि आपके परिवार की वित्तीय सुरक्षा आपका लक्ष्य है तो आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आप एक व्यापक टर्म बीमा योजना का चयन करें। हमने सूचीबद्ध किया है कुछ जीवन बीमा योजनाओं की ऑनलाइन तुलना करते समय आपको जिन लाभों पर ध्यान देना चाहिए :

  • प्रीमियम की छूट: स्थायी विकलांगता के मामले में प्रीमियम का भुगतान किए बिना जीवन बीमा कवर जारी रहेगा।
  • एक्सीडेंटल डेथ: यह लाभ दुर्घटना के कारण मृत्यु के मामले में आपके परिवार के सदस्यों को भुगतान की जाने वाली बीमित राशि को बढ़ाता है। अधिकांश अच्छे टर्म इंश्योरेंस प्लान आपको मूल बीमित राशि के बराबर आकस्मिक मृत्यु कवर प्रदान करेंगे।
  • आय लाभ: कुछ टर्म इंश्योरेंस प्लान आपके परिवार के सदस्यों को एकमुश्त राशि के बजाय योजना से नियमित आय प्राप्त करने की अनुमति देते हैं। यह लाभ तब काम आता है जब आप चाहते हैं कि आपका टर्म इंश्योरेंस प्लान आपकी अनुपस्थिति में आपके परिवार को मासिक आय प्रदान करे।

6. प्लान में राइडर्स जोड़ें (Add Riders to the Plan)

बहुत से लोग इस बात से अवगत नहीं हैं कि टर्म इंश्योरेंस कैसे चुनें और इसके लाभों को अपने विशेष प्रोफाइल में कैसे अनुकूलित करें। राइडर एक बीमा पॉलिसी के कवरेज को बढ़ाने के लिए बीमाकर्ताओं द्वारा प्रदान किए गए अतिरिक्त साधन उपकरण हैं। उन्हें अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान करके खरीद के समय मूल पॉलिसी से जोड़ा जा सकता है।
टर्म इंश्योरेंस प्लान के साथ उपलब्ध कुछ मानक राइडर्स हैं क्रिटिकल इलनेस राइडर, एक्सीडेंटल डेथ एंड डिसेबिलिटी राइडर, और प्रीमियम राइडर की छूट। आप टर्म इंश्योरेंस राइडर्स चुनने का तरीका जानकर टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी के दायरे का विस्तार कर सकते हैं।

टर्म इंश्योरेंस से संबधित प्रश्न (FAQ)  

1. टर्म इंश्योरेंस में किस प्रकार की मृत्यु को कवर किया जाता है?

जब जीवन बीमा योजना में बीमा राशि के निपटान का दावा करने की बात आती है, तो बीमा कंपनी द्वारा निम्नलिखित मौतों को वैध माना जाता है:
प्राकृतिक मृत्यु कारकों के कारण होती है, जैसे कि उम्र या कोई चिकित्सीय स्थिति।
कैंसर, स्ट्रोक आदि जैसी गंभीर बीमारी के कारण मृत्यु।
दुर्घटना में हुई मौत भी कवर होती है। कुछ योजनाएं दुर्घटनावश मृत्यु की स्थिति में नामांकित व्यक्ति को अतिरिक्त भुगतान भी प्रदान करती हैं।
प्राकृतिक आपदा जैसे भूकंप, बाढ़, तूफान, सुनामी आदि से होने वाली मृत्यु को भी योजना के तहत कवर किया जाता है।

टर्म लाइफ इंश्योरेंस प्लान में निम्नलिखित मौतें शामिल नहीं हैं:

  • स्वयं को हुई क्षति या आत्महत्या के कारण हुई मृत्यु टर्म इंश्योरेंस के अंतर्गत कवर नहीं होती है।
  • एक हत्या में मृत्यु जिसमें नामांकित व्यक्ति शामिल होता है, टर्म इंश्योरेंस प्लान के तहत कवर नहीं होता है। ऐसे मामलों में उचित जांच कराई जाएगी।

प्लान खरीदने से पहले इन पहलुओं को जानना जरूरी है। आप यह सुनिश्चित करने के लिए पॉलिसी दस्तावेज़ भी पढ़ सकते हैं कि आपके टर्म इंश्योरेंस में किस प्रकार की मौतें शामिल नहीं हैं।

2. यदि मैं अपने टर्म लाइफ इंश्योरेंस से अधिक जीवित रहूं तो क्या होगा?

जब आप टर्म लाइफ इंश्योरेंस खरीदते हैं, तो आप एक विशेष समय के लिए सुरक्षित रहते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप 25 वर्ष की आयु में 30 वर्ष की पॉलिसी अवधि के साथ कोई प्लान खरीदते हैं, तो टर्म लाइफ इंश्योरेंस प्लान आपको 55 वर्ष की आयु तक कवर करेगा। पॉलिसी की अवधि के बाद, टर्म इंश्योरेंस प्लान का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा और इसका कवरेज समाप्त हो जाएगा। यदि आप पॉलिसी की अवधि तक जीवित रहते हैं, तो आपके नामांकित व्यक्ति को कोई लाभ नहीं मिलेगा।
कवरेज को जारी रखने के लिए, आप या तो ऐसी योजना चुन सकते हैं जो एक लंबी पॉलिसी अवधि प्रदान करती है जो आपको जीवन भर के लिए कवर करती है या जीवन के विभिन्न चरणों में अपना जीवन कवर बढ़ाने का विकल्प चुन सकती है।

 3. आपके टर्म प्लान की अवधि कितनी होनी चाहिए?

अपने परिवार की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, आपको अपनी टर्म प्लान की इष्टतम पॉलिसी अवधि चुननी होगी।
एक शब्द का चयन करते समय कई पहलुओं पर ध्यान देने की आवश्यकता होती है। आप अपनी उम्र से शुरुआत कर सकते हैं। आप जितने छोटे होंगे, उतनी ही लंबी अवधि के लिए आपको सुरक्षा की आवश्यकता होगी और इसके विपरीत। आपका लिंग भी यहां एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, क्योंकि महिलाएं आमतौर पर पुरुषों की तुलना में अधिक समय तक जीवित रहती । इसी तरह, आपकी जीवनशैली की आदतें, आपके आश्रितों की उम्र आदि भी आपकी पॉलिसी अवधि की अवधि तय करती हैं।

4. क्या टर्म इंश्योरेंस का प्रीमियम हर साल बढ़ता है?

मौजूदा टर्म इंश्योरेंस प्लान का प्रीमियम हर साल नहीं बढ़ता है। आज आप जो प्लान खरीदते हैं, उसका प्रीमियम अब से कुछ वर्षों बाद तक उतना ही रहेगा, जब तक आपकी पॉलिसी सक्रिय और अपरिवर्तित रहती है। प्रीमियम तभी बदलेगा जब आप पूरी तरह से एक नया प्लान खरीदेंगे।
यदि आप अपने जीवन बीमा को बढ़ाते हैं या अतिरिक्त ऐड-ऑन लाभों के साथ अपनी पॉलिसी के कवरेज को बढ़ाते हैं तो आपका प्रीमियम भी बढ़ सकता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.