क्रिप्टो कॉइन और टोकन में क्या अंतर है

क्रिप्टो कॉइन और टोकन में क्या अंतर है: Crypto coin vs Token With Examples

क्रिप्टो कॉइन और टोकन में अंतर: क्रिप्टो करेंसी आजकल हमेशा न्यूज़ में रहता हैं. निवेशक हमेशा क्रिप्टो कॉइन या क्रिप्टो टोकन को एक ही मान लेते है. जबकि ऐसा होता नहीं है. आसान भाषा में कहू तो क्रिप्टो सिक्के और टोकन दोनों एक जैसे हैं लेकिन वे दो अलग-अलग चीजें हैं – सभी क्रिप्टो सिक्के टोकन हैं, लेकिन सभी टोकन को क्रिप्टो सिक्के नहीं माना जाता है. और भारत में बहुत से क्रिप्टो यूजर को ये नहीं पता होता है कि वो क्रिप्टो कॉइन खरीद रहे है या क्रिप्टो टोकन.

क्रिप्टो कॉइन और क्रिप्टो टोकन, दो सबसे आम ब्लॉकचेन-आधारित डिजिटल संपत्ति (digital assets) हैं. दोनों के बीच सबसे बड़ा अंतर यह है कि क्रिप्टोकरेंसी के अपने ब्लॉकचेन होते हैं, जबकि क्रिप्टो टोकन मौजूदा ब्लॉकचेन पर बनाए जाते हैं. अब बात digital assets की उठ गयी है तो इसके बारे में भी जान लेते है.

डिजिटल एसेट क्या है-What is a Digital Asset in Hindi?

यदि आप ब्लॉकचेन और क्रिप्टो करेंसी में अभी शुरुआत कर रहे हैं, तो डिजिटल संपत्ति, क्रिप्टो कॉइन और टोकन के बीच अंतर को समझना आवश्यक है. हालांकि इन शब्दों को अक्सर एक दूसरे के स्थान पर इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन वे कई महत्वपूर्ण तरीकों से भिन्न होते हैं. मोटे तौर पर, एक डिजिटल संपत्ति एक non-tangible asset है जिसे digital format में बनाया, व्यापार और संग्रहीत किया जाता है. ब्लॉकचेन के संदर्भ में, डिजिटल संपत्ति में ही क्रिप्टो करेंसी और क्रिप्टो टोकन शामिल हैं. non-tangible asset मतलब जिसे आप छू नहीं सकते है. इनका कोई भौतिक रूप नहीं होता है .

क्रिप्टो करेंसी और टोकन, डिजिटल संपत्ति के अद्वितीय उपवर्ग (subclass) हैं जो क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करते हैं, क्रिप्टोग्राफी एक advanced encryption technology है जो नकली या दोहरे खर्च की संभावना को समाप्त करके क्रिप्टो संपत्ति की प्रामाणिकता का आश्वासन देती है.

डिजिटल संपत्ति के दो वर्गों के बीच महत्वपूर्ण अंतर यह है कि क्रिप्टोकरेंसी एक ब्लॉकचेन की मूल संपत्ति है (native asset) – जैसे BTC or ETH. जबकि टोकन एक ऐसे प्लेटफॉर्म के हिस्से के रूप में बनाए जाते हैं जो मौजूदा ब्लॉकचेन पर बनाया गया है, जैसे कि कई ERC-20 जो Ethereum Blockchain पर बनाये गए हैं.

1. क्रिप्टो कॉइन क्या है-What is Crypto Coin in Hindi?

एक क्रिप्टोकरेंसी एक ब्लॉकचेन नेटवर्क की मूल संपत्ति है जिसे trade या medium of exchange (विनिमय) रूप में उपयोग किया जा सकता है, साथ में सोने की तरह स्टोर भी किया जा सकता है. एक क्रिप्टोकरेंसी सीधे Blockchain Protocol द्वारा जारी की जाती है जिस पर यह चलता है, यही कारण है कि इसे अक्सर ब्लॉकचैन की native asset के रूप में जाना जाता है. कई मामलों में, क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग न केवल नेटवर्क पर Transaction Fee का भुगतान करने के लिए किया जाता है, बल्कि उपयोगकर्ताओं को क्रिप्टोकरेंसी के नेटवर्क को सुरक्षित रखने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए भी किया जाता है. 

  • बिटकॉइन पहला क्रिप्टो सिक्का था क्योंकि इसमें वो सारी विशेषताएं हैं जो एक क्रिप्टो सिक्के को परिभाषित करती हैं और इसे क्रिप्टो टोकन से अलग करती हैं. क्रिप्टो सिक्के ब्लॉकचेन पर काम करते हैं: इसका मतलब है कि एक ब्लॉकचेन उन सभी लेन-देन का ट्रैक रखता है जिसमें उसका मूल क्रिप्टो सिक्का शामिल होता है. 
  • जब आप ईथर के साथ लेन-देन करते हैं, तो यह एथेरियम ब्लॉकचेन पर किया जाता है, जबकि बिटकॉइन लेनदेन अपने स्वयं के ब्लॉकचेन पर किया जाता है.

2. टोकन क्या है-What is a Token in Hindi

टोकन – जिसे क्रिप्टो टोकन भी कहा जाता है. क्रिप्टो सिक्कों के विपरीत, टोकन का अपना ब्लॉकचेन नहीं होता है. वे क्रिप्टो सिक्कों के ब्लॉकचेन पर काम करते हैं. उदाहरण के लिए, कई टोकन एथेरियम पर चलते हैं.

क्रिप्टो सिक्कों के लेन-देन को ब्लॉकचेन द्वारा नियंत्रित किया जाता है, जबकि टोकन smart contracts  पर निर्भर करते हैं. स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स array of codes हैं जो दो यूजर के बीच व्यापार की सुविधा प्रदान करते हैं. प्रत्येक ब्लॉकचेन अपने कई smart contracts  का उपयोग करता है.

टोकन मौजूदा ब्लॉकचेन पर स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स के साथ बनाना आसान है. एक ब्लॉकचेन हजारों टोकन होस्ट कर सकता है. जैसे Ethereum ब्लाक चेन पर बहुत से टोकन बनाये गए है.

Crypto Tokens programmable और permissionless होते है. programmable का सीधा सा मतलब है कि वे सॉफ्टवेयर प्रोटोकॉल पर चलते हैं, जो स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स से बने होते हैं जो टोकन की विशेषताओं और कार्यों और नेटवर्क के जुड़ाव के नियमों की रूपरेखा तैयार करते हैं.  (permissionless) अनुमति रहित का अर्थ है कि कोई भी व्यक्ति विशेष क्रेडेंशियल की आवश्यकता के बिना सिस्टम में भाग ले सकता है.

क्रिप्टो कॉइन और टोकन में अंतर (Difference between a crypto coin and token in Hindi)

ये यूजर की नजर से काफी हद तक एक दूसरे के समान हैं. हालाँकि, दोनों के बीच बड़े तकनीकी अंतर हैं. आइए तकनीकी अंतरों को जानने की कोशिश करते है.

S.No क्रिप्टो कॉइन क्रिप्टो टोकन
1 क्रिप्टो कॉइन स्वयं के ब्लाक चेन पर ऑपरेट होती है. इनका कोई ब्लाक चेन नहीं होता है. ये क्रिप्टो कॉइन के ब्लाक चेन पर ऑपरेट होती है.
2 क्रिप्टो कॉइन को पूरी तरह से पेमेंट्स के लिए यूज किया जाता है. क्रिप्टो टोकन को पेमेंट्स के साथ digital agreements के साथ sign करने के लिए यूज किया जाता है.
3 सभी क्रिप्टो कॉइन को टोकन कहा जा सकता है. टोकन को क्रिप्टो कॉइन नही कह सकते है.
4 Examples-Bitcoin, Ripple, Ethereum, Binance coin Examples- ENJIN, REN, Helium, Polkadot, BAT, Floki inu, Shiba Inu
5 क्रिप्टो कॉइन को स्थानांतरित करते समय लेनदेन के लिए शुल्क (या गैस) कम होता है टोकन स्थानांतरित करते समय अधिक महंगा होता है.

क्रिप्टो कॉइन के उदाहरण- Crypto Coin Examples

बिट कॉइन (BTC), रिप्पल (XRP), एथेरियम (ETH), बायनेन्स कॉइन (BNB),

क्रिप्टो टोकन के उदाहरण- Crypto Token Examples

फ्लोकी इनु, शीबा इनु , पोल्काडॉट (DOT), बेसिक अटेंशन टोकन (BAT)

ये भी पढ़े 

क्रिप्टो कॉइन और टोकन में अंतर हिंदी में आप को समझ आ गया होगा. इन दोनों में अंतर कुछ ज्यादा नहीं है.  हमें टेलीग्राम पर या गूगल न्यूज़ पर फॉलो कर सकते है.

मनी खबर@टेलीग्राम चैनल  Click here 
मनी खबर @गूगल न्यूज़ ऐप  Click here 

Leave a Comment

Your email address will not be published.