सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान क्या होता है

Mutual fund SIP: सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान क्या होता है और SIP कैसे काम करती है?

सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान क्या होता है और SIP कैसे काम करती है?

म्यूच्यूअल फण्ड में SIP का फुल फॉर्म सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (Systematic Investment Plan) है. यह म्यूचुअल फंड में व्यवस्थित तरीके से निवेश का एक तरीका है जिसमें एक निश्चित राशि नियमित समय के अंतर पर निवेश की जाती है, बजाय एक बार में एकमुश्त (lump sum) निवेश करने के. नियमित अंतराल साप्ताहिक, मासिक या किसी अन्य पूर्व निर्धारित समय पर हो सकता है. एसआईपी का उपयोग अक्सर म्यूचुअल फंड या अन्य प्रकार के निवेश वाहनों में निवेश करने के तरीके के रूप में किया जाता है. सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में 100 रूपये से भी निवेश किया जा सकता है. 

  1. एसआईपी का उपयोग करने का एक लाभ यह है कि यह निवेशकों को बड़े निवेश के बजाय समय के साथ छोटी मात्रा में धन का निवेश करने की अनुमति देता है.
  2.  जो स्टॉक मार्केट में निवेश करना चाहते है लेकिन उन्हें स्टॉक मार्केट का ज्ञान नहीं होता है. उनके लिए SIP के जरिये निवेश करना आसान होता है. क्योंकि सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में मार्केट के जानकार आपके पैसो को सही तरीके से निवेश करते है. 
  3. इसके अतिरिक्त, एसआईपी एक निवेश पोर्टफोलियो पर बाजार के उतार-चढ़ाव के प्रभाव को सुचारू बनाने में मदद कर सकता है, क्योंकि निश्चित राशि को एक बार में सभी के बजाय समय के साथ लगातार निवेश किया जाता है.
  4. सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में एक निर्धारित राशि होती है जिसे आप हर महीने निवेश करते हैं. यह एक बार में बड़ी एकमुश्त राशि निवेश करने के दबाव को कम करने में मदद करता है. आप किसी भी राशि का निवेश कर सकते हैं जो आपके लिए सुविधाजनक हो
  5. जब आप समय के साथ लगातार निवेश करते हैं, तो आप कीमतों के कम होने पर अधिक यूनिट प्राप्त करते हैं और कीमतें अधिक होने पर कम यूनिट प्राप्त करते हैं. यह आपके निवेश की औसत लागत को कम करने में योगदान देता है.

Also Read

म्यूचुअल फंड में SIP कैसे काम करता है?

सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान तीन चरणों में काम करता है.

यह इस तरह काम करता है;

 1 – एसआईपी मैंडेट

निवेशकों को म्युचुअल फंड में निवेश करने के लिए एक मैंडेट (एसआईपी के माध्यम से निवेश करने का अधिकार) देना होगा. जब आप किसी म्यूच्यूअल फण्ड ऐप से निवेश कर रहे हों तो “सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान” विकल्प का चयन करके इसे ऑनलाइन किया जा सकता है.

लेकिन ऑफलाइन के लिए, आपको एक मैंडेट फॉर्म भरना होगा और इसे आवेदन फॉर्म के साथ जमा करना होगा.

साथ ही फॉर्म पर आपको तिथि (जिस पर राशि निवेश की जाएगी) और राशि बतानी होगी .

ऑफ़लाइन में, आपको म्युचुअल फंड हाउस,या कार्वी के कार्यालय में मैंडेट फॉर्म जमा करना होगा या उन्हें डाक के द्वारा भेजना होगा .

 2 – ऑटो डेबिट

जब आप फॉर्म जमा कर देते हैं, तो फंड हाउस स्थायी निर्देश के माध्यम से बताई गयी निवेश राशि को आपके बैंक खाते से ऑटो-डेबिट कर लेता है.

इसी तरह, बाद की निवेश राशि भी आपके बताए गए व्यवस्थित निवेश योजना अंतराल पर ऑटो-डेबिट हो जाएगी.

इस तरह, आपको किसी भी भुगतान के गुम होने की चिंता करने की आवश्यकता नहीं है. 

 3 – म्युचुअल फंड इकाइयों का आवंटन

आपके बैंक खाते से डेबिट की गई राशि का उपयोग एमएफ यूनिट खरीदने के लिए किया जाता है.

और ऑफलाइन में आपको मनी ट्रान्सफर या चेक की प्राप्ति के दिन के समापन पर MF units आवंटित की जाती हैं.

आइए समझते हैं कि यह एक उदाहरण की मदद से सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान कैसे काम करता है.

मान लीजिए आप 1000 रुपये की एक सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) शुरू करते हैं.

किसी विशेष माह की 5 तारीख को 1000 रु. फिर र. प्रत्येक महीने की 5 तारीख को आपके बैंक खाते से 1000 ऑटो-डेबिट हो जाएंगे और इसका उपयोग एमएफ की इकाइयां खरीदने में किया जाएगा.

साथ ही, MF यूनिट्स को उस दिन की क्लोजिंग NAV पर खरीदा जाएगा.

प्रत्येक भुगतान के साथ, आपको विशेष एमएफ योजना की इकाइयां प्राप्त होंगी, जो आपके म्यूचुअल फंड खाते में जुड़ जाएंगी. आज कल ज्यादातर लोग ऐप के जरिये या ऑनलाइन  ही सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान से निवेश करते है. ऐप में सारे महीने की राशि दिख जाती है. और कितना निवेश किया है और कितना रिटर्न मिला है सब पता चल जाता है.

Mutual Funds SIP app- GrowwUpstox, Fisdom, ET Money App, Kuvera. बहुत से ऐप म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करने की सुविधा फ्री में देते है. जैसे Groww और कुछ आपसे चार्ज भी ले सकते है. 

सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान के लाभ (SIP benefits in Hindi)

निवेश करने के लिए व्यवस्थित निवेश योजना (SIP) के कई लाभ हैं:

Flexibility: एसआईपी निवेशकों को यह चुनने की आजादी देता है कि वे कितना निवेश करना चाहते हैं और कितनी बार निवेश करना चाहते हैं. यह लचीलापन निवेशकों के लिए उन्हें अपने वित्तीय लक्ष्यों को सेट करने और उन तक पहुंचना आसान बना सकता है.

Affordability: एसआईपी निवेशकों को छोटी मात्रा में धन का निवेश करने की सुविधा देता है. यह कम आये वाले लोगों के लिए आसान बनाता है.

Convenience: एसआईपी को अक्सर automatic किया जाता है, इसलिए निवेशकों को नियमित निवेश करने के लिए डेट याद रखने की आवश्यकता नहीं होती है. इससे निवेशकों के लिए अपनी निवेश योजना पर टिके रहना आसान होता है.

Discipline: एक एसआईपी आपको नियमित रूप से बचत और निवेश करने का अनुशासन विकसित करने में मदद करता है, जो लंबे समय में फायदेमंद हो सकता है।

क्या SIP में निवेश समझदारी है? SIP और स्टॉक मार्केट में क्या अन्तर है?

बजाय एक बार में एकमुश्त निवेश करने के SIP में एक निश्चित राशि निश्चित समय अंतराल पर निवेश की जाती है,। एसआईपी का उपयोग अक्सर म्यूचुअल फंड में निवेश करने के तरीके के रूप में किया जाता है।

दूसरी ओर, शेयर बाजार एक ऐसी जगह है जहां व्यक्ति और institutions स्टॉक खरीद और बेच सकते हैं, जो पब्लिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनियों में स्वामित्व का प्रतिनिधित्व करते हैं। स्टॉक को ब्रोकर के माध्यम से या online platforms के माध्यम से खरीदा और बेचा जा सकता है।

एसआईपी और शेयर बाजार के बीच कई अंतर हैं:

Investment strategy : एसआईपी निवेश की एक विधि है जिसमें नियमित समय अंतराल पर एक निश्चित राशि का निवेश करना होता है। दूसरी ओर शेयर बाजार, निवेशकों को किसी भी समय स्टॉक खरीदने और बेचने की अनुमति देता है।

Risk: एसआईपी और शेयर बाजार दोनों में जोखिम हैं। लेकिन स्टॉक मार्केट में खतरा ज्यादा होता है. क्योंकि जब आप एसआईपी लेते है तो आप एक बार में एक साथ  कई कम्पनी में निवेश करते है. और हर महीने करते है. अगर किसी महीने NAV कम भी हुआ तो औसत प्राइस नुकसान को कम कर देगी. जबकि शेयर मार्केट में एक बार में एक कंपनी का शेयर (individual stocks) खरीदते है.  और विभिन्न कारकों के आधार पर individual stocks का मूल्य ऊपर या नीचे जा सकता है।

Diversification: एसआईपी Diversification प्रदान कर सकते हैं क्योंकि वे निवेशकों को विभिन्न प्रकार के investment instrument में निवेश करने की अनुमति देते हैं, जैसे म्यूचुअल फंड या एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड (ईटीएफ), जो बड़ी संख्या में स्टॉक और अन्य assets रख सकते हैं। दूसरी ओर, शेयर बाजार, निवेशकों को individual stock खरीदने और बेचने की अनुमति देता है, जो जोखिम भरा हो सकता है क्योंकि किसी स्टॉक का प्रदर्शन कंपनी के प्रदर्शन से सीधे तरह से प्रभावित होता है।

Note- कोई भी निवेश निर्णय लेने से पहले वित्तीय सलाहकार या पेशेवर से सलाह जरुर ले.

Also Read

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इन 4 शेयर्स ने इन्वेस्टर्स को रुलाया 5 shares gave up to 53.6% returns in 5 days Tata Mutual Funds are proved money doubling schemes Foreign banks FDs : High interest rates in India Top 10 loss-making companies in the country